कृषक हितेषी
कृषक हितेषी निर्णय
सफलता की कहानी
कृषि दर्शन
मण्डी भाव
कृषि समाचार
फोटो गैलरी
कृषि संबंधित जानकारी 
फसल केप्सूल
आकस्मिक कार्य योजना
बीज
उर्वरक
पौध संरक्षण
मिट्टी परीक्षण
कृषि यंत्रीकरण
बीज गुणवत्ता
उर्वरक गुणवत्ता
कृषि सांख्यिकी
जैविक खेती
जैविक खेती
उत्पाद पंजीकरण
जैविक कृषि नीति
खेती को लाभकारी बनाने के लिए सुझाव
विभागीय गतिविधियाँ
नोटिस बोर्ड
वरिष्ठता / स्थानांतरण सूचि
परिपत्र
निविदाएं
प्रकाशन
मुद्रा 2015-16
फसल सिफारिशें
ख़रीफ फसल - असिंचित अपलेन्ड धान 
  खरपतवार प्रबंधन 

वनस्पति नाम

हिन्दी नाम

अंग्रेजी नाम

प्रकार

साइप्रस डिफ्यूसस

मोथा

नट सेजेस

सेजेस

एहिनोचलोआ कोलोनम

सावां

जंगल राइस

घास कुली

एहिनोचलोआ क्रसगली

सावां

बरनाड ग्रास

घास कुली

अल्टरनेन्था सिसेलिस

खाकी

वॉटर वीड

घास कुली

डेक्टीलोटिनियम एजीपटीकम

मकड़ा

क्रो रूट ग्रास

घास कुली

क्लोरिस बारबेटा

-

फिंगर ग्रास

घास कुली

डिजीटेरिया सेंगुनेलिस

-

लार्ज क्रेब ग्रास

घास कुली

इंडिगोफेरा हरसूटा

जंगली नील

इंडिगो

घास कुली

सटेरिया ग्लौका

बन्दरा बन्दरी

येलो फॉक्स टेल

घास कुली

सेटेरिया गेनिकुलाटा

-

फॉक्स टेल

घास कुली

सटेरिया ग्लौका

बन्दरा बन्दरी

येलो फॉक्स टेल

घास कुली

सेटेरिया गेनिकुलाटा

-

फॉक्स टेल

घास कुली

इसचिमम रूगोसम

-

-

घास कुली

साइप्रस रोटन्डस

मोथा

नट ग्रास या कोको ग्रास

सेजेस

साइप्रस डिफ्यूसस

मोथा

नट सेज

सेजेस

साइप्रस एसक्यूलेन्टस

मोथा

यलो नट सेज

सेजेस

साइप्रस फेरेक्स

मोथा

नट सेज

सेजेस

आईपोमिया स्पी.

काला दाना

-

चौडी पत्ती

इकोरनिया क्रासिपी

जलकुम्भी

वॉटर हाईसेथ

चौडी पत्ती

कौमिलिना बेंगालेसिस

कनकौआ

डे फ्लावर

चौडी पत्ती

कौमिलिना कमयूनिस

-

-

चौडी पत्ती

यूफोबिया हीरटा

बड़ी दुधी

पिल पॉड स्पर्ज

चौडी पत्ती

यूफोबिया जेनीकुलेटा

छोटी दुधी

स्पर्ज

चौडी पत्ती

फाइसेलिस मिनीमा

जंगली रसभरी

ग्राऊन्ड चेरी

चौडी पत्ती

इकलिप्टा अल्वा

अंगड़ा, झगरा

फाल्स डेजी या यरबा-डी-टेगो

चौडी पत्ती

एमरेन्थस स्पाइनोसिस

कटीली चौलाई

स्पाइनी एमरेन्थ

चौडी पत्ती

एमरेन्थस विरिडस

चौलाई

स्लेनडर एमरेन्थ या पीग वीड

चौडी पत्ती

बिडिन्स पिलोसा

-

बेगर स्टिक

चौडी पत्ती

ट्राईन्थमा मोनोगाइना

पत्थरचटा

कारपेट वीड

चौडी पत्ती

पारथेनियम हीस्ट्रोफोरस

गाजर घास

वाइल्ड केरेट ग्रास

चौडी पत्ती


यह नियंत्रण हर खरपतवार के लिए एक है

सस्य नियंत्रण :-

  1. गर्मी में गहरी जुताई करे जिससे कि बहुवषरी खरपतवारों का नाश हो सके।
  2. फसल की समय पर बुआई करें।
  3. बोनी के 25 से 35 दिन के भीतर हो चलाकर दो से तीन नींदाओं को नष्ट करें। या
  4. बोनी के 20 से 25 दिन के बाद पहली बार हाथ से उखाड़कर नींदा नष्ट करें तथा बोनी के 40 से 45 दिन के बाद दूसरी बार हाथ से उखाड़कर नींदा नष्ट करें।
  5. फसल के लिए यह अच्छा है कि बुआई के 55 से 60 दिन के बाद तक फसल नींदा मुक्त रहे।
  6. उर्वरकोंका उपयोग कतारों में करें।

रसायनिक नियंत्रण:-

घास कुली :-

  1. एनीलोफॉस 0.45 कि.ग्रा./हे की दर से अकुंरण पूर्व डाले।
  2. छिड़काव के लिए फ्लेट फेन नोजल का उपयोग करें एवं एक हेक्टेयर में 500 से 600 लीटर पानी का उपयोग करें।

चौड़ी पत्ती :-

  1. 2 ,4 डी. 0.50 कि.ग्रा./हे का उपयोग बोनी के 25-30 दिन बाद करें।
  2. छिड़काव के लिए फ्लेट फेन नोजल का उपयोग करें एवं एक हेक्टेयर में 500 से 600 लीटर पानी का उपयोग करें।

मिश्रित :-

  1. थायोबेनकार्ब 2 कि.ग्रा/हे या बुटाक्लोर 2 कि.ग्रा./हे या परटलाक्लोर 0.75 से 1.00 कि.ग्रा. का प्रयोग अकुंरण पूर्व करें।
  2. छिड़काव के लिए फ्लेट फेन नोजल का उपयोग करें एवं एक हेक्टेयर में 500 से 600 लीटर पानी का उपयोग करें।

आई. डब्लू. एम. :-

  1. यदि समय पर नींदा का नाश नहीं किया गया तो उपज में 30-35 प्रतिशत की कमी हो सकती है।
  2. हमेशा अच्छी गुणवत्ता वाले बीज का उपयोग करें।
  3. पूरी तरह से सड़ी हुई खाद का उपयोग करें।
  4. बंड़ एवं सिंचाई की नालियों की समय समय पर सफाई करें एवं इन्हें नींदा मुक्त रखें।
  5. स्वच्छ खेती करें एवं साफ कृषि यंत्रों का उपयोग करें।
  6. सीधे बोये गये धान में नत्रजन को हिस्सों में दें। और थायोबेलकार्ब और प्रोपानिल 1.5 कि.ग्रा./हे बुआई के 14 दिन बाद और बुआई के 35 दिन बाद एक बार हाथ से नींदा नष्ट करें।
  7. सीधी बुआई वाले धान में बूटाक्लोर और सफेनर और बाद में इथोक्सीसल्युरान का उपयोग करें। और पन्डीमिथलीन 30 ई.सी.1.5 कि.ग्रा./हे ( अकुंरण पूर्व और 2,4 डी.सोडियम सोल्ट 30 ई.सी. 1 कि.ग्रा./हे बुआई के 30 दिन के बाद उपयोग करें।)
    खरपतवार को वर्षा के बाद उगने दे और फिर इन्हें रसायनिक,यांत्रिक विधियों से नष्ट करें।
  8. कतारों के बीच हस्त चलित वीडर का उपयोग करें।
  9. कतारों में बुआई करें।
  10. खेतों में पक्की मेढ़ बना दें जिससे कि अधिक वर्षा की स्थिति में खरपतवार डूबकर नष्ट हो जावें।
     

M.P. Krishi
 
किसान को दी जाने वाली सुविधायें |डाउनलोड फॉण्ट|डिस्क्लेमर|वेब सूची|उपयोगकर्ता मार्गदर्शिका|ू. दिगदर्शिका|अचल सम्पति

वेबसाइट:आकल्पन,संधारण एवं अघयतन क्रिस्प भोपाल द्वारा   
This site is best viewed in IE 6.0 and above with a 1024x768 monitor resolution
कृषिनेट  पोर्टल पर उपलब्ध जानकारी, फोटो, लिंक, विडियो कल्याण तथा कृषि विकास संचालनालय एवं विभाग के अन्य सहयोगी संस्थानों द्वारा उपलब्ध करायी गई है