कृषक हितेषी
कृषक हितेषी निर्णय
सफलता की कहानी
कृषि दर्शन
मण्डी भाव
कृषि समाचार
फोटो गैलरी
कृषि संबंधित जानकारी 
फसल केप्सूल
आकस्मिक कार्य योजना
बीज
उर्वरक
पौध संरक्षण
मिट्टी परीक्षण
कृषि यंत्रीकरण
बीज गुणवत्ता
उर्वरक गुणवत्ता
कृषि सांख्यिकी
जैविक खेती
जैविक खेती
उत्पाद पंजीकरण
जैविक कृषि नीति
खेती को लाभकारी बनाने के लिए सुझाव
विभागीय गतिविधियाँ
नोटिस बोर्ड
वरिष्ठता / स्थानांतरण सूचि
परिपत्र
निविदाएं
प्रकाशन
मुद्रा 2015-16

फसल सिफारिशें

खरीफ फसल - मूंग

उर्वरक प्रबंधन

  1. अच्छी उपज के लिए करीब 20-30 कि.ग्रा. नत्रजन, 50-60 कि.ग्रा. फास्फोरस एवं 30-40 कि.ग्रा. पोटॉश प्रति हेक्टेयर के दर से उपयोग करें।

  2. उर्वरकों की पूरी मात्रायें बोनी के पूर्व दे।


  • इस फसल को सामान्यत: सिंचाई की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

  • एक सिंचाई उपलब्ध होने पर फूल आने पर सिंचाई करें।


  • बोनी के 20-30 दिन के बाद अन्तरसस्य क्रियायें करना चाहिए।

  • दूसरी निदाई बोनी के 45 दिन बाद यदि मजदूर उपलब्ध हो तो हाथ से करना चाहिए।

  • खेत में पानी का जमाव हो तो निकाल दें।

  • समय समय पर खेत का निरीक्षण करें और अगर कीडों# रोगों का आक्रमण दिखे तो नियंत्रण उपाय कर