कृषक हितेषी
कृषक हितेषी निर्णय
सफलता की कहानी
कृषि दर्शन
मण्डी भाव
कृषि समाचार
फोटो गैलरी
कृषि संबंधित जानकारी 
फसल केप्सूल
आकस्मिक कार्य योजना
बीज
उर्वरक
पौध संरक्षण
मिट्टी परीक्षण
कृषि यंत्रीकरण
बीज गुणवत्ता
उर्वरक गुणवत्ता
कृषि सांख्यिकी
जैविक खेती
जैविक खेती
उत्पाद पंजीकरण
जैविक कृषि नीति
खेती को लाभकारी बनाने के लिए सुझाव
विभागीय गतिविधियाँ
नोटिस बोर्ड
वरिष्ठता / स्थानांतरण सूचि
परिपत्र
निविदाएं
प्रकाशन
मुद्रा 2015-16

फसल सिफारिशें

खरीफ फसल - संकर धान


खरपतवार प्रबंधन

 

वनस्पति नाम

हिन्दी नाम

अंग्रेजी नाम

प्रकार

साइप्रस इरिया

मोथा

नट सेजेस

सेजेस

इक्नोक्लोवा कोलोनम

सावा

वॉटर ग्रास या जंगल ग्रास

घास कुली

इकाइनोक्लोवा क्रसगलि

सावा

बरनाड ग्रास

घास कुली

अल्टेतानथा सीसीलीस

खाकी

वॉटर वीड

घास कुली

डेक्टीलोटीनियम एजीक्टीकम

मकड़ा

क्रो रूट ग्रास

घास कुली

क्लोरिस बारबेटा

-

फीन्गर ग्रास

घास कुली

डिजीटेरिया सेन्गुनेलिस

क्रेब घास

लार्ज क्रेब ग्रास

घास कुली

इन्डीगोफेरा हीरसूटा

जंगली नील

इन्डिगो

घास कुली

सटेरिया ग्लूका

बंदरा बंदरी

यलो फॉक्स टेल

घास कुली

सिटेरिया जेनीकूलेटा

-

फॉक्स टेल

घास कुली

इकायमम रूगोसम

-

-

घास कुली

साइप्रस रोटन्डस

मोथा

परपल नट सेज

सेजेस

साइप्रस डिफ्यूसिस

मोथा

नट सेजेस

सेजेस

साइप्रस इस्कूलेनटस

मोथा

यलो नट सेज

सेजेस

साइप्रस फेरेक्स

मोथा

नट सेजेस

सेजेस

इपोमिया स्पी.

काला दाना

-

चौडी पत्ती

इकोरनिया क्रेसीपी

जल खुम्भी

वॉटर हाईसन

चौडी पत्ती

कोमिलिना बेंगालिसिस

कनकुआं

डे फ्लावर

चौडी पत्ती

कैमिलेना कम्यूनिस

केना

-

चौडी पत्ती

इफोबिया हीरटा

बड़ी दूधी

पिल पॉड स्पर्ज

चौडी पत्ती

इफोरबिया जेनिकूलेटा

छोटी दूधी

स्पर्ज

चौडी पत्ती

फाइलसिस मिनीमा

जुगली रस भरी

ग्राऊण्ड चेरी

चौडी पत्ती

इक्लिप्टा अल्वा

भांगरा

फाल्स डेसी या

चौडी पत्ती

एमराथस स्पानोसिस

कटीली चौली

स्पाइनी एमरान्थ

चौडी पत्ती

बिडिन्स पिलोसा

-

बेगर स्टीक्स

चौडी पत्ती

पारथेनियम हीस्ट्रेरोफोरस

गाजर घास

वाइल्ड केरेट वीड

चौडी पत्ती

यह नियंत्रण हर खरपतवार के लिए एक है

सस्य नियंत्रण :-

  1. रोपणी के पहले खेत की तैयारी अच्छी तरह से करने से खरपतवार का नियंत्रण किया जा सकता है।

  2. खेत की तैयारी अच्छी तरह से करें।

  3. खेत को अच्छी तरह से मचाने से भी नींदाओं पर नियंत्रण होता है।

  4. कतार बुआई में जापानी हेरो का उपयोग करें।

  5. खेत में 5 से.मी. पानी रहने देना चाहिए।

रसायनिक नियंत्रण :-

घास कुली :-

  1. उपलब्ध नहीं है।

चौड़ी पत्ती :-

  1. उपलब्ध नहीं है।

मिश्रित :-

  1. 50 ई.सी. बूटाक्लोर 2.8 से 3.6 कि.ग्रा.#हे की दर से डाले। या

  2. थायोबेनकार्ब 50 ई.सी. 2.8 कि.ग्रा.#हे की दर से डाले। या

  3. 30 ई.सी. पेन्डीमेथलीन 2.8 कि.ग्रा.#हे की दर से डाले। या

  4. 0.85 कि.ग्रा.#हे एनीलोफॉस

  5. ऊपर लिखे कवकनाशी को 145 कि.ग्रा.#हे रेत की दर से मिलाए।

  6. रोपणी के 2-3 दिन के अन्दर ही कवकनाशी का उपयोग करें।

  7. खेत में 4 से 5 से.मी. पानी रहने पर छिड़काव एकसमान करें।

आई. डब्लू. एम. :-

  1. अच्छी गुणवत्ता वाले बीजों का उपयोग करें।

  2. अच्छी तरह सड़ी हुई खाद का उपयोग करें।

  3. खेत में मेढ़ों की सफाई करें तथा सिंचाई के लिए नालियों की भी सफाई करें।

  4. नर्सरी को खरपतवार मुक्त रखें।

  5. वर्षा के बाद नींदा को उगने दें तथा उग जाने पर उखाड़कर फेंक दें।

  6. उचित जल प्रबंधन से नींदा का विकास निंयत्रित किया जाता है।

  7. लूजीोप 0.5 कि.ग्रा. और 0.25 कि.ग्रा.#हे सेथोजाइडिम का उपयोग खेत में 5 से.मी. पानी रहने पर करना चाहिए।


M.P. Krishi
 
किसान को दी जाने वाली सुविधायें |डाउनलोड फॉण्ट|डिस्क्लेमर|वेब सूची|उपयोगकर्ता मार्गदर्शिका|ू. दिगदर्शिका|अचल सम्पति

वेबसाइट:आकल्पन,संधारण एवं अघयतन क्रिस्प भोपाल द्वारा   
This site is best viewed in IE 6.0 and above with a 1024x768 monitor resolution
कृषिनेट  पोर्टल पर उपलब्ध जानकारी, फोटो, लिंक, विडियो कल्याण तथा कृषि विकास संचालनालय एवं विभाग के अन्य सहयोगी संस्थानों द्वारा उपलब्ध करायी गई है