कृषक हितेषी
कृषक हितेषी निर्णय
सफलता की कहानी
कृषि दर्शन
मण्डी भाव
कृषि समाचार
फोटो गैलरी
कृषि संबंधित जानकारी 
फसल केप्सूल
आकस्मिक कार्य योजना
बीज
उर्वरक
पौध संरक्षण
मिट्टी परीक्षण
कृषि यंत्रीकरण
बीज गुणवत्ता
उर्वरक गुणवत्ता
कृषि सांख्यिकी
जैविक खेती
जैविक खेती
उत्पाद पंजीकरण
जैविक कृषि नीति
खेती को लाभकारी बनाने के लिए सुझाव
विभागीय गतिविधियाँ
नोटिस बोर्ड
वरिष्ठता / स्थानांतरण सूचि
परिपत्र
निविदाएं
प्रकाशन
मुद्रा 2015-16
फसल सिफारिशें

खरीफ फसल -मूंगफली
किस्में
किस्में

उपज

अवधि

राज्य

गुण

ए.के. 12-24

12-14 क्/हि

105-107 दिन

मध्यप्रदेश

  1. स्पेन की गुच्छेदार किस्म।

  2. फलियों में दो दाने होते है।

  3. दाना बड़ा होता है और गुलाबी होता है।

  4. फलियाप्त निकालने के बाद उपज 75 प्रतिशत और तेल 48.4 प्रतिशत रहता है।

ए.के. 8-10

12-14 क्/हि

120 दिन

महाराष्ट्र

  1. अर्ध्द फैलने वाली किस्म।

  2. बड़े बीज वाली किस्म।

  3. फलियाप्त निकालने के बाद उपज 75 प्रतिशत और तेल 42 प्रतिशत रहता है।

चन्द्रा( एच. 11)

25-28 क्/हि

125-135 दिन

उत्तर प्रदेश

  1. अर्ध्द फैलने वाली।

  2. पत्तियों गहरे हरे रंग की होती है।

  3. दाना बड़ा होता है और तेल 48 प्रतिशत रहता है।

  4. फलियों से उपज 70 प्रतिशत रहती है।

  5. सरकोस्पोरा पत्ती धब्बा से प्रतिरोधक है।

चित्रा

20-25 क्/हि

125-130 दिन

हरियाणा, पंजाब , बिहार,राजस्थान और मध्यप्रदेश

  1. मध्यम आकार और फैलने वाली किस्म।

  2. फलियों से उपज 68 प्रतिशत और तेल 47 प्रतिशत रहता है।

सी.ओ.1

18-22 क्/हि

95-105 दिन

तमिलनाडु

  1. गुच्छेदार किस्म।

डी.एच. 330

25-30 क्/हि

100-110 दिन

कर्नाटक

  1. सरकोस्फोरा पत्ती धब्बा से प्रतिरोशक है।

स्माल

10-15 क्/हि

95 दिन

महाराष्ट्र

  1. गुच्छेदार किस्म

  2. फलियों से उपज 70 प्रतिशत और तेल 51 प्रतिशत रहता है।

मूंगफली-एन

20-32 क्/हि

123-135 दिन

पंजाब

  1. फैलने वाली किस्म और अच्छा विकास ।

  2. बीज बड़े होते है।

  3. फलियाप्त से 68 प्रतिशत दाने मिलते है।

  4. तेल की प्रतिशत मात्रा 49

  5. पंजाब की रेतीली मिट्टी में उगाने हेतू उपयुक्त ।

पी.जी-1

14-16 क्/हि

130 दिन

पंजाब

  1. फैलने वाली किस्म

  2. पंजाब के असिंचित क्षेत्रों में और वे क्षेत्र जहां मौसमी वर्षा 50-100 से.मी हो।

  3. फलियाप्त से 69 प्रतिशत दाने मिलते है और तेल की प्रतिशत मात्रा 49 रहती है।

फूले प्रगति
(ख्-24)

18-23 क्/हि

95-100 दिन

महाराष्ट्र

  1. गुच्छेदार किस्म

  2. दाने मध्यम आकार और गुलाबी रंग के होते है।

  3. फलियाप्त से 72 प्रतिशत दाने निकलते है तेल की प्रतिशत मात्रा 50.7।

आर. एस. समराला

15-20 क्/हि

135-140 दिन

राजस्थान

  1. फैलने वाली किस्म

  2. फल्लियाप्त से 77 प्रतिशत दाने मिलते है। और तेल की प्रतिशत मात्रा 48।

सोमनाथ

19 क्/हि

-

-

  1. अच्छी उपज वाली, जल्दी पकने वाली और बड़े दाने वाली किस्म।

  2. फलियाप्त से दाने 72.3 प्रतिशत मिलते है।

स्पेनिश इमप्रो

15-20 क्/हि

100-110 दिन

महाराष्ट्र

  1. गुच्छेदार किस्म

  2. सूखे से प्रतिरोधक

  3. फलियाप्त से 74 प्रतिशत दाने मिलते है।

  4. तेल की प्रतिशत मात्रा 52 रहती है।

स्पंरिग ग्राउड

20 क्/हि

120 दिन

पंजाब

  1. गुस्छेदार किस्म जिसकी ऊँचाई 26 से.मीत्र रहती है।

  2. फलियों का आकार मध्यम रहता है।
    दाने भूरे रहते है।

  3. फलियाप्त से 64 प्रतिशत दाने मिलते है। और तेल की प्रतिशत मात्रा 50 रहती है।

टी. जी. 26

16-18 क्/हि

110-120 दिन

मध्य प्रदेश

  1. फलियाप्त से दाने 65 प्रतिशत मिलते है।

  2. तेल की प्रतिशत मात्रा 49 रहती है।

  3. रबी एवं ग्रीष्म खेती के लिए उपयुक्त।

].B.. -1

14-18 क्/हि

135 दिन

तमिलनाडु

  1. यह सूखे से आंशिक प्रतिरोधक है।

  2. फलियाप्त से 74 प्रतिशत दाने मिलते है।

  3. तेल की प्रतिशत मात्रा 50 रहती है।

टाइप -28

20-25 क्/हि

125-135 दिन

उत्तर प्रदेश

  1. फैलने वाली गहरे रंग की पत्तियों वाली किस्म।

  2. बीज का आकार मध्यम रहता है।

  3. फलियाप्त से 72 प्रतिशत दाने मिलते है और तेल की प्रतिशत मात्रा 48 रहती है।

जे.जी.एन.-3

15-17 क्/हि

95-100 दिन

मध्य प्रदेश

  1. बड़ी पत्तियों वाली गुच्छेदार किस्म।

  2. अण्डेकार फलियों

  3. गुलाबी दाना

  4. हर प्रकार की मिट्टी और समय पर बोनी के लिए उपयुक्त।

जे.एम.-2

18-20 क्/हि

105 दिन

मध्य प्रदेश 

 

जे.एम. 24

18 क्/हि

98-105 दिन

मध्य प्रदेश

  1. छिलका मुलायम होता है

  2. एक फलियाप्त में 2 से तीन दाने होते है।

  3. गुलाबी दाने।

जे.एम. 3

16-18 क्/हि

104-108 दिन

मध्य प्रदेश 

  1. सूखे से प्रतिरोधक।

  2. एक फी के 2-3 दाने।

  3. गुलाबी दाना।

  4. पत्ती धब्बा रोग से प्रतिरोधक।

जे. मूंगफली-1

15 क्/हि

104-108 दिन

मध्य प्रदेश 

  1. तेल का प्रतिशत 50

जूनागढ़

15-20 क्/हि

100-105 दिन

पूरे भारत में

  1. गुच्छेदार किस्म

  2. सरकोस्पोरा पत्ती धब्बे से संवेदनशील।

  3. फलियाप्त से करीब 70 प्रतिशत दाने मिलते है और दानों से 49 प्रतिशत तेल।

ज्योति

26 क्/हि

105-110 दिन

मध्य प्रदेश

  1. गुच्छेदार पतले फलियाप्त वाली जकड़ी हुई फलियों वाली किस्म।

  2. फलियों का आकार मध्यम और गुलाबी दाने।

  3. 52 तेल प्रतिशत।

  4. परीक्षण वजन 37.7/100 बीज,78 प्रतिशत फलियाप्त से दाने मिलते है।
    सरकोस्पोरा पत्ती धब्बा से संवेदनशील।

कदीरी

17-20 क्/हि

115-125 दिन

आन्घ्र प्रदेश

  1. पौधे की ऊँचाई 23 से 28 से.मी. रहती है।

  2. दो दाने वाली फलियां होती है।  

कदीरी

17-20 क्/हि

100-110 दिन

आन्घ्र प्रदेश 

  1. पौधे छोटे होते है और फलियां जड़ की तरफ लगती है।

  2. फलियों में दो दाने होते है।

  3. दाने बेंगनी, आकार में मध्यम और लम्बे होते है।

  4. फलियाप्त से 44.7 प्रतिशत दाने निकलते है।

  5. तेल का प्रतिशत 72 होता है।

  6. कली के गलने से प्रतिरोधक।

कराड 4-11

20-25 क्/हि

145 दिन

महाराष्ट्र

  1. फैलने वाली किस्म।

  2. तेल प्रतिशत 48

कोनकन गौरा

18-20 क्/हि

105 दिन

महाराष्ट्र

  1. खरीफ और रबी दोनों मौसम के लिए उपयुक्त।

कोपरगांव

15-20 क्/हि

125 दिन

महाराष्ट्र

  1. अर्ध्दफैलने वाली किस्म

  2. खरीफ और रबी दोनों के लिए उपयुक्त।

  3. 48 प्रतिशत तेल की मात्रा।

मुंगफली एच

18-22 क्/हि

105-110 दिन

हरियाणा

  1. गहरी हरी पत्तियों वाली गुच्छेदार किस्म।

  2. फलियाप्त से 70 प्रतिशत दाने मिलते है और 50 प्रतिशत तेल की मात्रा।

M.P. Krishi
 
किसान को दी जाने वाली सुविधायें |डाउनलोड फॉण्ट|डिस्क्लेमर|वेब सूची|उपयोगकर्ता मार्गदर्शिका|ू. दिगदर्शिका|अचल सम्पति

वेबसाइट:आकल्पन,संधारण एवं अघयतन क्रिस्प भोपाल द्वारा   
This site is best viewed in IE 6.0 and above with a 1024x768 monitor resolution
कृषिनेट  पोर्टल पर उपलब्ध जानकारी, फोटो, लिंक, विडियो कल्याण तथा कृषि विकास संचालनालय एवं विभाग के अन्य सहयोगी संस्थानों द्वारा उपलब्ध करायी गई है