कृषक हितेषी
कृषक हितेषी निर्णय
सफलता की कहानी
कृषि दर्शन
मण्डी भाव
कृषि समाचार
फोटो गैलरी
कृषि संबंधित जानकारी 
फसल केप्सूल
आकस्मिक कार्य योजना
बीज
उर्वरक
पौध संरक्षण
मिट्टी परीक्षण
कृषि यंत्रीकरण
बीज गुणवत्ता
उर्वरक गुणवत्ता
कृषि सांख्यिकी
जैविक खेती
जैविक खेती
उत्पाद पंजीकरण
जैविक कृषि नीति
खेती को लाभकारी बनाने के लिए सुझाव
विभागीय गतिविधियाँ
नोटिस बोर्ड
वरिष्ठता / स्थानांतरण सूचि
परिपत्र
निविदाएं
प्रकाशन
मुद्रा 2015-16
फसल सिफारिशें

रबी फसल - सरसों

कीट प्रबंधन - सरसों


 
कीट प्रक्लूटेला ज़ाइलोस्टेला

 
प्रचलित नाम डायमंड बेक मोथ


क्षति
  1. वयस्क छोटा स्लेटी मोथ होता जिसके सामने के पंख में तीन सफेद रंग के त्रिकोणी धब्बे होते है।
  2. शांत अवस्था में ये त्रिकोणी धब्बे हीरे के आकार के दिखाई पड़ते है।
    लार्वा हरे रंग के होता है।
  3. इल्ली पत्तियों को खाती है।फलियों को छेदकर बीजों को भी खा लेती है।
     
आई.पी. एम
  1. हानिकारक कीटों की विभिन्न अवस्थाओं को प्रारंभ में हाथों से एकत्रित कर नष्ट करें।
नियंत्रण
  1. लार्वा के नियंत्रण के लिए 5 प्रतिशत मेलाथीयान 37.5 कि.ग्रा प्रति हेक्टेयर की दर से उपयोग करें।
    या
  2. 940 मि.ली ट्राईक्लोरोफान को 200 से 315 लीटर पानी में छिड़काव करें।
    इस कीट में कई कीटनाशकों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता होती है परन्तु ट्राईक्लोरोफान प्रभावकारी है।

कीट क्रूसीडोलोमिया वाइनोटोलिस  

प्रचलित नाम पत्ती मोड़क
क्षति
  1. सरसों का मुख्य कीट है।
  2. वयस्क मोथ पीले भूरे रंग के होते है जिनके पंखों पर लाल भूरी धारियां और सफेद धब्बे होते है।
  3. लार्वा पीले भूरे रंग के होते है।
  4. लार्वा नई पत्ती के क्लोरोफिल को खाती है और बाद में पुरानी पत्तियां, कलियों और फलियों को खाती है। पौधे पत्ती रहित होते है और फलियों के दाने खा लेते है।
आई.पी. एम
  1. हानिकारक कीटों की विभिन्न अवस्थाओं को प्रारंभ में हाथों से एकत्रित कर नष्ट करें। 
नियंत्रण
  1. मोनोक्रोटोफॉस या कार्बारिल का छिड़काव प्रभावकारी है।

कीट बेग्रराडा हीलारीस  

प्रचलित नाम चितकबरी बग
क्षति
  1. दिसम्बर से मार्च में सक्रिय होते है।
  2. वयस्क बग काली होती है जिनमें नारंगी धब्बे होते है, इसलिए इसे चितकबरी बग कहते है।
  3. कीट के शिशु और वयस्क पौधे के सभी भागों से रस चूसते है, जिससे पौधों में सफेद धब्बे दिखाई देते है।
  4. अत्याधिक प्रकोप होने पर पौधे नष्ट हो जाते है।
  5. उपज में काफी कमी आती है।
    थेशिग के समय भी फसल पर संक्रमण हो सकता है।
आई.पी. एम
  1. एफिड के नियंत्रण के लिएउपयुक्त कीटनाशक का उपयोग करें।
  2. खलिहान से जल्दी से जल्दी से फसल को हटायें।
  3. बोनी के 4 सप्ताह बाद सिंचाई करें जिससे चितकबरी बग का आक्रमण कम होता है।
नियंत्रण
  1. 1000 मि.ली. /हे 50 ई.सी. मेलाथीओन
    या
    625 मि.ली. /हे 25 ई.सी. क्वीनालफॉस
    इन सभी को 200 से 300 लीटर में मिलाकर छिड़काव करें।
  2. मिथाइल पैराथीओन 2 प्रतिशत 25 कि.ग्रा /हे की दर से छिड़काव करें।

कीट -  

प्रचलित नाम नीलभृग
क्षति
  1. प्रारंभिक अवस्था में हानि पंहुचाता है।
आई.पी. एम
  1.  गर्मी में गहरी जुताई करें।
  2. खेत की साफ सफाई करें।
  3. नीम आधारित कीटनाशकों का उपयोग करें।
नियंत्रण
  1. 20 कि.ग्रा. फोलीडोल प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करें। या
    25 ई.सी. मोनोक्रोटोफॉस 600 मि.ली. प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करें।
     

कीट हेलूला अनडेलिस  

प्रचलित नाम केबेज हेड छेदक
क्षति
  1. कीट के मोथ हल्के स्लेटी रंग के होते है।
  2. इल्ली पहले पत्तियों को छेदते है और उन्हें सफेद पेपर सा बना देती है। पत्तियों को खाने के बाद ये तने को छेदती है ।
आई.पी. एम
  1. हानिकारक कीटों की विभिन्न अवस्थाओं को प्रारंभ में हाथों से एकत्रित कर नष्ट करें।
नियंत्रण
  1. लार्वा के नियंत्रण के लिए 5 प्रतिशत मेलाथिओन 37.5 ग्राम प्रति हेक्टेयर का छिड़काव करें।
    डाइक्लोरोवॉस 85 एस.एल. या 940 लि.ली. ट्राईक्लोरोवॉस 200 से 315 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें।
  2. कारबेज या मोनोक्रोटोफॉस का भी छिड़काव किया जा सकता है।

कीट लिफाएपिस इरीसीमी  

प्रचलित नाम एफिड 

क्षति
  1. पौधे की सभी अवस्थाओं में आक्रमण करता है।
  2. पत्तियां मुड जाती है और बाद में मर जाती है।
  3. पौधा अकड़ जाता है और पत्तियों और फलियों पर चिपचिपा पदार्थ छोड़ा जाता है जिस पर काली फंफूद विकसित हो जाती है।
  4. वर्षा और बदली वाला मौसम इस कीट की बढोतरी में सहायक होता है।
आई.पी. एम
  1. छिड़काव आवश्यकता होने पर ही करें।
  2. यदि उपयोगी कीट जैसे सिरफिट मक्खी आदि खेत में बड़ी संख्या में हो तो छिड़काव न करें।
  3. छिड़काव हमेशा शाम को ही करें।
  4. दो विभिन्न कीटनाशकों के दो छिड़काव के बीच कम से कम 2 दिन का अन्तर होना चाहिए।
  5. बोनी जल्दी करें।
  6. सिरफिड मक्खी, बीटल, चक्सोपा एफिड को खाते है और किसानों के लिए मित्र होते है।
नियंत्रण
  1. ओक्सीडेमीटान 25 ई.सी. या डाईमेथेएट 30 ई.सी. 625 से 1000 मि.ली. 200 से 315 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।
  2. हल्की सिंचाई ध्दारा 10 ग्राम फोरेट 10 कि.ग्रा. /हे या 3 ग्राम कार्बाफ्यूरान 932.5 कि.ग्रा/हे का उपयोग करें।
  3. क्वीनालफॉस 25 ई.सी. या फारमोथीयोन 25 ई.सी. या मेलाथीयोन 50 ई.सी. या क्लोरोपाइरीफॉस 20 ई.सी. 937-1500 मि.ली पानी में या
    फासफामीडान 35 एस.एल. 150-250 मि.ली.
  4. इनमें से कोई भी कीटनाशक 200 से 315 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें।

कीट एथालिया ल्यूगनस प्रोक्सीमा  

प्रचलित नाम आरी मक्खी
क्षति
  1. अक्टूबर से दिसम्बर के बीच सक्रिय रहते है।
  2. वयस्क नारंगी रंग के पारदर्शी पंख वाले होते है।
  3. लार्वा हरी काली और आठ जोड़े सामने के पैर होते है।
  4. लार्वा को स्पर्श करने से वह अपने शरीर को रिंग बना देता है।
  5. फसल की पत्तियों को किनारे से खाकर नुकसान पहुंचाती है।
आई.पी. एम
  1. हानिकारक कीटों की विभिन्न अवस्थाओं को प्रारंभ में हाथों से एकत्रित कर नष्ट करें।
नियंत्रण
  1.  1000 मि.ली. /हे 50 ई.सी. मेलाथीओन
    या
    625 मि.ली. /हे 25 ई.सी. क्वीनालफॉस
    इन सभी को 200 से 300 लीटर में मिलाकर छिड़काव करें।
  2. मिथाइल पैराथीओन 2 प्रतिशत 25 कि.ग्रा /हे की दर से छिड़काव करें।
  3. मेथिल या कार्बायल का उपयोग करें।

M.P. Krishi
 
किसान को दी जाने वाली सुविधायें |डाउनलोड फॉण्ट|डिस्क्लेमर|वेब सूची|उपयोगकर्ता मार्गदर्शिका|ू. दिगदर्शिका|अचल सम्पति

वेबसाइट:आकल्पन,संधारण एवं अघयतन क्रिस्प भोपाल द्वारा   
This site is best viewed in IE 6.0 and above with a 1024x768 monitor resolution
कृषिनेट  पोर्टल पर उपलब्ध जानकारी, फोटो, लिंक, विडियो कल्याण तथा कृषि विकास संचालनालय एवं विभाग के अन्य सहयोगी संस्थानों द्वारा उपलब्ध करायी गई है